Thursday, 1 April 2010

सुनहरी मछली



बात है तो विचित्र 
किन्तु फिर भी है !

हो गया था 'प्रेम' एक पुरुष को 
एक सुनहरी मछली से ! 
लहरों से अठखेलियाँ  करती,
बलखाती ,चमचमाती मछली 
भा गई थी पुरुष को !
टकटकी  बाँधे पहरों देखता रहता वह 
उस चंचला की अठखेलियाँ !
मछली को भी अच्छा लगता था 
पुरुष का यूँ निहारना !

बन्ध गए दोनों प्रेम- बंधन में !
मिलन की आकांक्षा स्वाभाविक थी !
पुरुष ने मछली से मनुहार की--
"एक बार,सिर्फ़ एक बार 
जल से बाहर आने का प्रयत्न करो "
प्रिय-मिलन की लालसा इतनी तीव्र थी 
कि भावविव्हल हो -
मछली जल से बाहर आ गई
छटपटा गई,बुरी तरह से छटपटा गई 
किन्तु अब वह प्रियतम की बाँहों में थी !
प्रेम की गहन अनुभूति में ......
कुछ पल को----
सारी तड़प,सारी छटपटाहट  जाती रही !
एकाकार हो गए दोनों !
ये प्रेम की पराकाष्ठा थी !!!

तृप्त हो ,प्रेमी नें प्रेयसी को 
फिर से जल में प्रवाहित कर दिया !
बड़ा विचित्र,बड़ा सुखद और 
बड़ा दर्दनाक था यह मेल !!!
हर बार पूरी शक्ति बटोर--
चल पड़ती प्रेयसी प्रीतम से मिलने
तड़फडाती-छटपटाती
प्रेम देती- प्रेम पाती
तृप्त करती - तृप्त होती
फिर लौट आती अपने जल में !
बहुत दिनों तक चलता रहा ये खेल !

एक दिन ----
मछली को जाने क्या सूझी ...
उसने पुरुष से कहा --
  " आज तुम आओ ! "
" मैं...मैं जल में कैसे आऊं ??
मेरा दम घुट जायगा !"-- पुरुष बोला
"कुछ पल को अपनी साँस रोक लो"-मछली नें कहा
साँस रोक लूँ ...यानी जीना रोक लूँ ??
कुछ पल 'जीने ' ही तो आता हूँ तुम्हारे पास ,
साँस रोक लूँगा तो जियूँगा कैसे ???-पुरुष ने कहा

मछली अवाक थी !!!
एक पल में -----
पुरुष-प्रकृति और प्रेम के पारस्परिक सम्बन्ध
का "सत्य " उसके सामने था !!!!
अब कुछ भी जानने-पाने और चाहने को शेष ना था !
मछली ने निर्विकार भाव से पुरुष को देखा ......
फिर डूब गई जल की अतल गहराइयों में !!!!

अनभिज्ञ पुरुष जीने की लालसा लिए
अभी तक वहीं खड़ा सोच रहा है
मेरा दोष क्या है ???

दीप्ति मिश्र

2 comments:

prkant said...

बहुत सुन्दर कविता . दोनों की प्रकृति में अंतर है. समर्पण भी पुरुष एक सीमा तक ही कर पाता है,चाहे युद्ध हो या प्रेम .

Rohit said...

ati-uttam..