Showing posts with label KAVITA 19.10.2005 10.30am to 11.30am. Show all posts
Showing posts with label KAVITA 19.10.2005 10.30am to 11.30am. Show all posts

Thursday, 4 February 2010

SALEEB


सलीब 


संवेदना की सलीब पर ,
लटकी हुई 'मैं'
जाने कब से ...
अपने घाव धो-पोंछ रही हूँ !
लोग मेरे पास आते हैं 
मुझे अनुभूत करते हैं 
और 
घोल देते हैं 
अपनी सारी की सारी वेदना 
मेरी संवेदना में !
फिर कहते हैं --
'मेरी हो जाओ'
उत्तर में 'नहीं' सुनकर 
बौखला जाते हैं 
और
शब्दों का हथौड़ा लेकर 
'ठक्क' से ठोंक देते हैं
मेरे सीने में 
दुःख की एक और 'कील'!
 मैं कुछ नहीं कहती 
इधर मेरे घावों से
रिसने लगता है 
लहू  ...
उधर उनकी आँखों से 
आँसू !!

दीप्ति मिश्र